बिहार का मंगलमय – कोरोना से लड़ाई ? किसकी जीत किसकी हार ?

1
122
बिहार का मंगलमय

बिहार का मंगलमय - कोरोना से लड़ाई ? किसकी जीत किसकी हार ?

बिहारवासियों एवं प्रिय पाठको, सादर अभिनन्दन।
मैंने अपने पिछले लेख में “बिहार का मंगलमय –

“बिहार का मंगल कौन करेगा ? कैसे होगा ? कब होगा ?”

और उत्तर था कि बिहारियों का मंगल बिहारियों को छोड़ कर और कोई नहीं करेगा।
अब आपका प्रश्न यह हो सकता है इसमें नया क्या है, कौन सी अनोखी बात है ??
जवाब है, पहले बिहारियों को कोरोना से खुद को बचाना होगा फिर वह बिहार का मंगलमय करने के लिए बचेंगे।

प्रिय पाठक गण, वर्तमान समय मे कोरोना महामारी विकराल रूप धारण कर रही है, और इसे रोक पाने में सम्पूर्ण मानवजाति असहाय महसूस कर रही है ।
बिहार में आज की तारीख में कुल 6470 मरीज़ है, कुल 4170 मरीज ठीक हो चुके है और कुल 39 मरीजों की मौत हो चुकी है। बिहार इस तरह से ग्यारहवें नंबर पर है, आरोग्य सेतु ऐप के जानकारी के अनुसार।

bihar corona update

प्रश्न - बिहार का मंगल कौन करेगा ?

अब प्रश्न उठता है कि बिहारवासी अपने आप को इस वैश्विक महामारी से कैसे बचाए ?

इसके बचाव एवम् इलाज के बारे में जब भी सोचता हूं तब महाभारत की एक घटना याद आ जाती है, जिसमे महान योद्धा “अर्जुन” के प्राण लेने के लिए अश्वत्थामा के द्वारा छोड़ा गया ब्रह्मास्त्र आ गया तो, भगवान श्रीकृष्ण के सलाह पर अर्जुन ने नमस्कार कर उसका सम्मान करते हुए अपने प्राणों की याचना की और ब्रह्मास्त्र ने अपनी दिशा परिवर्तित कर ली और अर्जुन को प्राण दान मिल जाता है।

इसी प्रकार हमे भी इस अदृश्य शक्ति के सामने नतमस्तक होकर आदर का भाव कर अपने प्राणों की रक्षा की याचना को, और ईश्वर से प्रार्थना कीजिए की वह हमारी रक्षा करे। इस महामारी में लोगो की अपने अपने धर्मो के प्रति आस्था ही इस महामारी से रक्षा की शक्ति प्रदान करेगा, और अगर आपको यह विश्वास है कि आपका भगवान, आपका ईश्वर आपका अल्लाह आपकी रक्षा कर रहा है तो आपकी रोग प्रतिरोधक क्षमता भी बढ़ जाएगी, आपकी आत्मविश्वास के कारण।
इन सबमें सबसे महत्वपूर्ण बात यह है कि आपको सरकार द्वारा जारी दिशा निर्देशों का अक्षरशः पालन करना होगा।
मै अभी स्वय निम्नलिखित नियमो का पालन कर रहा हूं, जबकि मेरे आरोग्य सेतु एप में ऑरेंज स्टेटस हो चुका है, क्योंकि कोई कोविड पॉजिटिव व्यक्ति मेरे पास से गुजरा था। ये नियम निम्न है :-

  •  अपने हाथो कि बार बार साबुन और पानी से धोए |

  • अपने चेहरे को ढक कर रखें मास्क से |

  • अपने शरीर और आस पास को साफ सुथरा रखे।

  • सभी लोगो से कम से कम 6 फीट या 2 गज की दूरी बना कर रखे |

  • जरूरतमंद लोगों की यथा शक्ति मदद करे |

कुछ दिनों पहले सोशल मीडिया एवम् न्यूज चैनल्स पर कुछ वीडियो वायरल हो गए थे, जिसमे दिखाया गया कि कुछ हिन्दू महिलाएं ” कोराना माई” की पूजा कर रही है , और दूसरी ओर कुछ मुस्लिम महिलाए कोराना को अपने धर्म के साथ जोड़ कर अपने आप को सुरक्षित होने का दावा कर रही थी।

जिसे बहुत सारे लोगो ने अंधविश्वास कहकर नकार भी दिया है, फिर भी मेरा यह मानना है कि उपरोक्त महिलाओं का अपने धर्म के प्रति आस्था ही उन्हें इस महामारी और महामारी से उत्पन्न निराशाजनक माहौल से उभरने  के लिए साकारात्मक ऊर्जा प्रदान करेगा।

परंतु राज्य सरकारों से कोराना से बचावो का अक्षरशः पालन करने के बाद ही यह सारे उपाय कामयाब होंगे।

अभी आप यही मान कर चलिए की राज्य सरकार की दिशा निर्देश, “भगवान श्री कृष्ण की सलाह है या अल्लाह ताला, राज्य सरकार के माध्यम से आपको बचाने के लिए यह दिशा निर्देश दे रहा है।

आमीन !
खुदा हाफ़िज़। जय श्री राम

बिहार की मंगलकामना के साथ अपने शब्दो को विराम देता हूं, अगले लेख तक के लिए।

                                   “बिहार का मंगलमय हो।”

जय हिंद जय बिहार।
– प्रभात कुमार ” गोविंदवा”

1 COMMENT

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here