राजगीर नाम से प्रसिद्ध हुआ भारत का यह छोटा सा अंश |

0
183
बिहार में राजगीर

राजगीर नाम से प्रसिद्ध हुआ भारत का यह छोटा सा अंश |

सोचता हूँ कभी क्यों भारत स्वर्ण चिरैया देश है|
औरों देश की अपेक्षा क्यों ये विशेष है|
मगध साम्राज्य की स्थापना को लेकर बिहार में मिल रहा अवशेष
जरासंध के खजानों का अभी भी कुछ मात्र है शेष |
मौर्य शासक बिम्बिसार को दिया बुद्ध ने यहीं उपदेश |
राजगीर नाम से प्रसिद्ध हुआ भारत का यह छोटा सा अंश |
ब्रह्मा की पवित्र यज्ञ भूमि का पुरावृत में है इसका बखान |
इसके संस्कृति और वैभव से वेदों और पुराणों को भी है अभिमान |
पंच पहाड़ियों से घिरा हुआ राजगीर वन्यजीव अभ्यारण्य |
प्राकृतिक सौंदर्य से परिपूर्ण विविध वन्यजीव आश्रयणी |
रज्जु मार्ग की विशेषता के कारण गृद्धकुट पर्वत महान हुआ |
शांति स्तूप की निर्माण्ता से गरिमामयी राजगीर धाम हुआ |
सप्तधाराओं के समर्पण से गर्म जल कुण्ड का अभिर्भाव हुआ |
भगवान महावीर की अमृत वाणी से पवित्र विपुलांचल गिरि राज हुआ |
सप्तपर्णी गुफा भी यूँ ही कुछ खास रहा |
प्रथम बौद्ध संगीति का आयोजन इसी गर्म कुण्ड के साथ हुआ |
इतने पर्यटन स्थलों में मनियार मठ भी शेष रहा |
अष्टकोणी मंदिर से राजगीर की भूमि विशेष रहा |

-ऋषिकेश

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here