अलविदा धोनी रैना

0
481
अलविदा धोनी रैना

धोनी और रैना ने लिया अंतराष्ट्रीय क्रिकेट से सन्यास।

आज 15 अगस्त 2020 आज ही के दिन 1947 में हमारा देश आज़ाद हुआ। आज पूरा देश आज़ादी कि ख़ुशी मना रहा था। ख़ुशी इतनी ज्यादा हो गई कि शाम क़रीब 7 बजे धोनी का इंस्टाग्राम पे एक पोस्ट आता है, और पूरे भारत के लोग मायूस हो जाते हैं। इंस्टाग्राम पे धोनी एक वीडियो “पल दो पल का शायर हूँ” सॉन्ग के साथ डालते हैं और लिखते हैं कि अब तक आपके प्यार और सहयोग के लिए धन्यवाद। शाम सात बजकर 29 मिनट से मुझे रिटायर्ड समझिए। धोनी का ये भावूक पोस्ट पूरे भारत को भावूक कर देता है।

अलविदा धोनी रैना

रैना ने भी दिया सन्यास।

अभी पूरा देश पूरे फैन उदास ही थे कि रैना का भी एक ट्वीट आता है, और रैना लिखते हैं कि “माही ये आपके साथ खेलने के अलावा कुछ भी नहीं था। पूरे दिल से गर्व के साथ, आपकी इस यात्रा में मैं खुद को भी शामिल करना चाहता हूं। थैंक यू इंडिया। जय हिंद।” और इसी के साथ रैना ने भी सन्यास दे दिया। हम बता दें कि रैना धोनी के बहुत करीबी दोस्तों में से एक हैं।

धोनी रैना की दोस्ती।

धोनी और रैना की दोस्ती ने एक मिसाल क़ायम कर दिया। आज धोनी के साथ रैना ने सन्यास दे कर साबित कर दिया कि दोस्ती से बढ़ कर कुछ भी नही। हालांकि दोस्ती का असली मतलब धोनी ने समझाया है। धोनी ने रैना,अश्वनी, रोहित, गौतम, इत्यादि के साथ बहुत अच्छी दोस्ती निभाई है।धोनी इनको हमेसा चांस देते रहे हैं। कभी कभी जनता गुस्सा भी हो जाती थी कि ये अच्छा नही खेल रहा है तो धोनी इसे क्यूँ खेला लिया। लेकिन एक बात ये भी है कि धोनी जिसे भी चांस देते थे वो उनके उमीदो पर खड़ा उतरता था। और जनता कहती थी कि धोनी ने जो किया अच्छा किया। धोनी कप्तान रहने के बाजूद धोनी ने कभी पहले बैटिंग नही कि धोनी हमेसा ठंडे दिमाग से सोचते थे। और बैट्समैन को बैटिंग के लिए भेजते थे। जब उनको लगता था। कि हमको बैटिंग करने जाना चाहिए तो वो खुद जाते थे और लोग हैरान हो जाते थे।

याद रखा जाएगा ।

धोनी की क्रीपिंग, हेलीकॉप्टर शॉट और लास्ट बोल पे छक्का मारना। जीत के बाद विकेट उखाड़ कर ले जाना। याद रखा जाएगा। दबाव के बावजूद कूल रहना याद रखा जाएगा। याद रखा जाएगा मैदान में हँसी मज़ाक करना बाते करना। याद रखा जाएगा उनका 7 नम्बर। याद रखा जाएगा तीन चार नम्बर पे बल्लेबाजी करना। धोनी से जुड़ी  सब कुछ याद रखा जाएगा। लम्बा बाल रखना याद रखा जाएगा। वर्ल्डकप जितना। लास्ट बोल छक्का मारना ये सब याद रखा जाएगा।

लिखने को तो बहुत कुछ है धोनी साहब के और रैना के बारे में। धोनी एक ऐसी शख्सियत है जिसके बारे में जितना लिखा जाए उतना कम है।

© इरसाद आलम शिबू  और बिहार वाइब्स

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here