बस चालक और किसान के बेटों ने मचाई धूम

0
647
Backbenchers Youtube Video RP Sanim & Rocking BBD

मैं इरशाद_शिबू आज मैं बात करूंगा बिहार के बैकबेंचर्स की। बिहार के वो दो युवा आर पी स्नैम और रॉकिंग बी बी डी की जो एक मिडिल क्लास से आते हैं। ये दोनों बहुत अच्छे दोस्त हैं। इन दोनों में एक ज़ुन्नुन है एक ताक़त है कुछ कर गुज़रने की, हाल ही में यूट्यूब चैनल StreetGem Production के बैनर तले रिलीज हुई इनकी बैकबेंचर्स सुर्खियों में है,यूट्यूब के चैनल पे रिलीज हुई बैकबेंचर्स ने क़रीब दो दिन में करीब पन्द्रह सौ लाइक और नौ हज़ार के आसपास व्यूज बटोरे हैं। ये सब इन दोनों की मेहनत ही नही बल्कि पूरी टीम और इनको सुरु से अंत तक साथ देने वाले अतुल्य गुंजन और मोनालिसा का भी मेहनत शामिल है।

Backbenchers Youtube Video RP Sanim & Rocking BBD

कितना करना पड़ा संघर्ष

तो चलिये सबसे पहले हम बात करते हैं आर पी स्नैम की
आर पी का जन्म 10/06/2001 को बिहार के वैशाली जिले में हुआ था। आर पी के पिता राजेश कुमार दिनकर एक बस चालक हैं, माँ आंगनबाड़ी शिक्षिका हैं,आर पी के माता पिता चाहते थे कि हमरा बेटा डॉक्टर बने और आर पी की भी यही इच्छा थी। लेकिन कहते हैं ना जो क़िस्मत में लिखा रहता है वही होता है आर पी के किस्मत में एक रैपर,और सिंगर बनना लिखा था।
आर पी कहते हैं की वो 12th क्लास पास करने के बाद उनको एहसास हुआ कि डॉक्टर बनना मेरे बस का नही है। क्योंकि की आर पी को सँगीत में धीरे धीरे रुचि बढ़ने लगी थी। लेकिन माँ पापा को राज़ी करना बहुत मुश्किल था। कहतें हैं ना सपनो को पूरा करना इतना आसान नही होता। कई मुस्किलो का सामना करना पड़ता है तब जा कर सपना पूरा होता है। लेकिन आर पी ने अपने कला से लोगो दिल तो जीता ही और माँ पापा का भी जीत लिया और फिर माँ बाप की तरफ़ से मिल गई इजाजत संगीत कि दुनिया मे अपना नाम करने की।

अब हम बात करते हैं धर्मवीर यानी रॉकिंग बी बी डी की इनका जन्म 10/10/2001 को बिहार के पटना जिले में हुआ था। पिता तीजेंद्र सिंह ठेकेदार हैं माँ सिंजत देवी हाउस वाइफ हैं। रॉकिंग के माता पिता भी चाहते है कि हमारा बेटा पढ़ लिख कर सरकारी नोकरी करे। रॉकिंग ने फिटर से आईटीआई भी किया ताकि किसी रेलवे में नौकरी लग जाए लेकिन नौकरी नही लगी और रॉकिंग रैपिंग में ज्यादा रूचि थी इस लिए रॉकिंग ने फैसला लिया कि मैं अब संगीत के दुनिया मे ही जाऊंगा और फिर आर पी से मुलाकात हुई अच्छी दोस्ती हुई फिर इन दोनों अपने गाने का अल्बम बनाने का सपना सोचा और इनके सपने को पूरा किया मोनालिसा और अतुल्य गुंजन ने।

आर पी का ये वीडियो बनाने का एक और मकसद था।मकसद ये था कि क्लास में सबसे पीछे बैठने वाले बच्चों को लोग कमज़ोर और नकारा हैं और बदमास समझते हैं। बल्कि वही पीछे बैठे बच्चे आगे जा कर इतिहास लिखते हैं। आपको बता दें कि ये बैकबेंचर्स वीडियो किसी मंहगे सेटअप पे नही बना है बल्कि इस वीडियो का सारा सेटअप टीम के मेम्बर्स ने तैयार किया है,और ये सराहनीय है।

आर पी और बीबीडी ने बताया कि बहुत जल्द और भी वीडियो आने वाली है जिसकी शूटिंग चालू है।

कुल मिला कर बात ये है कि बिहार आगर चाह दें तो इतिहास पलट दें ये वही बिहार है जँहा से सबसे ज्यादा आईएस आपीएस निकले हैं। ये वही बिहार जँहा दशरथ मांझी ने पहाड़ का सीना चिर कर रास्ता बनाया था।बिहार में बहुत सारी कला है और जोश भी है मगर ऑफ़सोस हमारे बिहारियो के पास कोई अच्छा प्लेटफार्म नही है कोई जरिया नही है!

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here